Fastag Kya Hai Aur Kaha Se Kharide ?

क्या आप जानना चाहते है की fastag kya hai और कहाँ से सस्ता में खरीदे तो यह पोस्ट आपके लिए ही है |

दोस्तों, fastag अब मतलब की 15 दिसम्बर 2019 से अनिवार्य रूप से लागु हो गया है और ऐसे में जब कोई भी कानून बनता है तो सबसे ज्यादा लोग उसके बारे में ये जानकारी रखना चाहते है की उसका आप पर क्या असर होगा और जब ये fastag लागु हो गया है ऐसे में आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है की आखिर ये क्या होता है और इसको कहाँ से खरीद सकते है इसलिए आप इस पोस्ट में जानेंगे की :-

  • Fastag Kya hai
  • Fastag ki last date kab tak hai
  • Fastag kab se lagu hoga
  • Fastag Kaha se kharide matlab ki kaha milega etc.

जब इस जानकारी को आप लेंगे और आपको लगे की ये जानकारी बहुत important है तो इसे whatsapp या फेसबुक पर अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करियेगा|

FasTag Kya Hai ?

दोस्तों, आप अगर हाईवे पर किसी four wheeler से जाते होंगे तो आप टोल प्लाजा जिसे टोल नाका भी कहा जाता है, वहाँ पर एक लाइन से गाड़ी लगता है और ड्राईवर उतर कर या ड्राईवर के पास एक आदमी आता है जिसके हाथ में कुछ पर्ची होता है और वो पर्ची आपके गाड़ी के ड्राईवर को देता है और उसके बदले पैसे लेता है |

fastag kya hai

अब आप सोच रहे होंगे की कहीं ये रंगदारी तो नही है ? लेकिन डरिये नही क्योकि ये भारत सरकार का ही legal तरीका है पैसे वसूलने का क्योकि इसको कहते है टोल टैक्स |

टोल टैक्स क्या है

टोल टैक्स , असल में एक टैक्स है की जब आप अपने गाड़ी को किसी भी हाईवे पर चलाते है तो उसका टैक्स भरना पड़ता है और उस टैक्स को आखिर कैसे दीजियेगा ? आखिर कैसे पता चलेगा की आप किस हाईवे का इस्तेमाल कर रहे है तो इसके लिए सभी नेशनल हाईवे पर टोल टैक्स कलेक्शन करने के लिए टोल प्लाजा बनाया गया है |

fastag kaha se kharide

अब आप जिस भी हाईवे पर से गुजरेंगे तो जब टोल प्लाजा मिलेगा तो वहां पर रुक कर टोल टैक्स देना होगा और ये तरीका पुराना हो गया , क्योकि इस तरीका के कारण अब भीड़ बहुत हो जाती है |

Read Also : EMV ATM Chip Card Kya hai

आप तो जानते ही होंगे की अपने देश में इतने गाड़ी हो गये है की उसका टोल टैक्स देने वाले जगह पर बहुत भीड़ हो जाती है जिससे कहीं न कहीं बिज़नस पर असर होता है इसलिए सरकार ने सोचा की क्यों नही इसको एकदम डिजिटल कर दिया जाये |

Fastag kya hota hai ?

अब जब डिजिटल की बात होगी तो सबसे बड़ी दिक्कत ये थी की आखिर कोई भी कंप्यूटर सिस्टम कैसे समझेगा की किस गाड़ी को जाने देना है और किसको नही ? मतलब की किसने टोल टैक्स दिया और किसने नही तो इसके लिए एक अलग सिस्टम बनाया गया |

fastag kya hai

इस सिस्टम में एक चिप बनाया गया जिसे एक तरह अ कार्ड कह सकते है और ये RFID कार्ड होता है , आपको याद है मेट्रो स्टेशन पर जैसे कार्ड होता है तो उसमे भी RFID होता है और उसमे पहले से पैसा रहता है और जैसे ही आप मेट्रो स्टेशन पर उसका इस्तेमाल करते है तो अपने आप कितना पैसा लेना है उसमे से ले लिया जाता है |

Read Also : One Nation One Card Kya hai

उसी आधार पर टोल टैक्स के लिए भी एक टैग जैसा कार्ड बनाया गया मतलब एक ऐसा RFID टैग वाला कार्ड जिससे ये पता चले की गाड़ी ने पैसा चुकाया या नही , इसी कार्ड को Fastag कार्ड कहते है |

Fastag se fayda

इसका फायदा ये होगा की अब आपको देर तक गाड़ी को लाइन में नही लग्न होगा , अगर आपके गाड़ी में fastag है और उसमे पैसा रिचार्ज करवा के रखे है तो fastag वाले लाइन में गाड़ी को ले जाये और उसी टोल प्लाजा में ऊपर से एक fastag RFID रीडर लगा होगा जो की आपके गाड़ी के शीशा पर जो fastag लगा होगा उसको रीड करने उसमे से पैसा ले लेगा और आपके लिए टोल प्लाजा का गेट अपने आप खुल जायेगा

Fastag ki last date

दोस्तों, fastag की last date ख़त्म हो चुकी है और अब 15 दिसम्बर 2019 से एकदम अनिवार्य रूप से लागु करना ही होगा इसलिए अगर अभी तक आपने ये नही खरीदा है तो आप खरीद लीजिये और मैं जानता हूँ की अब आप कहेंगे की आखिर ये कहाँ मिलेगा जिससे की आप खरीद सके |

Fastag kaha se kharide? kaha milega

इसको आप अपने नजदीकी बैंक से भी खरीद सकते है और ऑनलाइन भी खरीद सकते है जैसे की paytm से भी खरीद सकते है , वैसे ये बैंक भी आपको ये सुविधा देती है :-

buy fastag online

  • Axis Bank Fastag
  • Fastag ICICI Bank
  • Fastag HDFC Bank
  • Fastag Paytm
  • Fastag online SBI
इसको शेयर जरुर करे और दुसरो को मदद करे
Ajay Kumar

He is a web developer, social media influencer and core programmer who love to write code, apart from this he loves to write tech article and share via social media. Right Now I Am A YouTuber And Investor In Share Market And Mutual Funds

1 thought on “Fastag Kya Hai Aur Kaha Se Kharide ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *